उ0प्र0 राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत 1365 लघु उद्यमी लाभान्वित

लखनऊ: 04 जनवरी, 2019 राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत कई विभागों के साथ कन्वर्जेन्स के माध्यम से नवाचार करके जननी सुरक्षा योजना के अन्तर्गत राजकीय अस्पतालों में टिफिन (तैयार भोजन की) आपूर्ति सर्व शिक्षा अभियान के अन्तर्गत छात्र-छात्राओं के ड्रेस सिलाई आदि जैसे कार्य कराकर महिला स्वयं सहायता समूहों को स्वरोजगार उपलब्ध कराये जा रहे हैं। वित्तीय वर्ष 2018-19 में अबतक कुल 483238 ड्रेस की सिलाई स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा की जा चुकी है।
प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास श्री अनुराग श्रीवास्तव द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार पशुपालन विभाग के माध्यम से मुर्गी पालन, हस्तशिल्प विभाग के माध्यम से ज़री जरदोजी एवं वुड क्राफ्ट, आईआईटी मुम्बई एवं ईईएसएल भारत सरकार के साथ सोलर स्टडी लैम्प परियोजना का कार्य किया जा रहा है। अब तक 6 लाख स्कूली बच्चों को सोलर स्टडी लैम्प उपलब्ध कराये जा चुके हैं।
विभिन्न जनपदों के जिलाधिकारी/सीडीओ, बीडीओ, तहसील एवं कारागार कार्यालयों में 208 प्रेरणा कैन्टीन प्रारम्भ की गयी है। आजीविका ग्रामीण एक्सप्रेस योजना के अन्तर्गत स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) की महिलाओं द्वारा अभी तक 101 वाहन क्रय किये गये हैं। उ0प्र0 राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत स्टार्टअप विलेज आन्टप्रेन्योरशिप प्रोग्राम का कार्य कराया जा रहा है। अब तक 1365 लघु उद्यमियों को लाभान्वित किया गया है।

Facebook Comments