18वें एशियाई खेल : भारत ने एथलेटिक्स में जीते सर्वाधिक पदक

जकार्ता:  भारतीय खिलाडिय़ों ने एशियाई खेलों के 18वें संस्करण में दमदार प्रदर्शन करते हुए कुल 15 स्वर्ण पदक अपने नाम किए। यह इस महाद्वीपीय खेल महाकुम्भ में भारत का अब तक का सबसे अच्छा प्रदर्शन है। 1951 में भी भारत ने इतने ही स्वर्ण जीते थे। एशियाई खेलों का 18वां संस्करण भारत के लिए इसलिए भी यादगार रहेगा क्योंकि भारतीय खिलाडिय़ों ने बीते सभी संस्करणों की तुलना में इस बार अपने लिए सबसे अधिक पदक हासिल किए।

भारत ने 15 स्वर्ण, 24 रजत और 30 कांस्य के साथ कुल 69 पदक जीते जबकि अपनी मेजबानी में हुए पहले संस्करण में भारतीय खिलाडिय़ों ने 15 स्वर्ण, 16 रजत और 20 कांस्य के साथ कुल 51 पदक जीतकर तालिका में दूसरा स्थान हासिल किया था। कुल पदकों के मामले में भी भारत ने 2010 एशियाई खेलों की पीछे छोड़ दिया। चीन के ग्वांगझु में हुए 2010 एशियाई खेलों में भारत ने कुल 65 पदक जीते थे। जकार्ता में भारत के लिए सबसे अधिक पदक एथलेटिक्स में आए।

एथलीटों ने सबको चौकाते हुए सात स्वर्ण, 10 रजत और दो कांस्य के साथ कुल 19 पदक अपने नाम किए। एथलेटिक्स की कई स्पर्धाओं में भारतीय खिलाडिय़ों ने उम्मीद से उलट प्रदर्शन करते हुए चौंकाने वाले परिणाम दिए। भारत ने पुरुष 800 मीटर, पुरुष 1500 मीटर, पुरुष गोला फेंक, पुरुष भाला फेंक, पुरुषों के तिहरी कूद, महिलाओं की 4 गुणा 400 मीटर रिले, महिला हेप्टाथलान में स्वर्ण हासिल किए।

गोला फेंक में तेजेंदरपाल सिंह तूर ने एशियाई रिकॉर्ड के साथ तिरंगा फहराया। शूटिंग से भारत को काफी उम्मीदें थीं। भारतीय निशानेबाजों ने निराशा नहीं किया और दो स्वर्ण, चार रजत और तीन कांस्य के साथ कुल नौ पदकों पर कब्जा किया।

Facebook Comments