पटेल के रणनीतिक कौशल का नतीजा है एकजुट भारत: PM मोदी

नई दिल्ली:  देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की 31 अक्टूबर को जयंती से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि ‘एकजुट भारत’ पटेल की ‘सूझबूझ और रणनीतिक कौशल’ को समर्पित है। मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के 49वें संस्करण में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भी श्रद्धांजलि अर्पित की।

मोदी ने कहा कि 31 अक्टूबर हमारी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की भी पुण्यतिथि है। इंदिरा जी को हमारी सम्मानीय श्रद्धांजलि। राष्ट्र को एकजुट करने में पटेल के योगदान को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने सभी रियासतों के संप्रभु भारत में विलय को सुनिश्चित किया था। मोदी ने कहा कि पटेल ने एक-एक कर समाधान निकाला और देश को एकता के सूत्र में पिरोने के असंभव कार्य को पूरा कर दिखाया। उन्होंने सभी रियासतों के संप्रभु भारत में विलय को सुनिश्चित किया। जूनागढ़ हो या हैदराबाद, त्रावणकोर हो या फिर राजस्थान की रियासतें। वह सरदार पटेल ही थे जिनकी सूझबूझ और रणनीतिक कौशल से आज हम एक हिंदुस्तान देख पा रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने 31 अक्टूबर को गुजरात के नर्मदा जिले में ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ के अनावरण की भी घोषणा की जिसे पटेल की श्रद्धाजंलि के रूप में बनाया गया है। गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर बन रही इस प्रतिमा की ऊंचाई अमेरिका के ‘स्टैचू ऑफ लिबर्टी’ से दो गुनी है। यह विश्व की सबसे ऊंची गगनचुंबी प्रतिमा है। हर भारतीय इस बात पर अब गर्व कर पाएगा कि दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा भारत की धरती पर है। माटी के बेटे पटेल अब आसमान की भी शोभा बढ़ाएंगे।” उन्होंने लोगों से बड़ी संख्या में ‘रन फॉर युनिटी’ में भी भाग लेने का आग्रह किया। पटेल की जयंती के मौके पर देश भर में एक मैराथन का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश का युवा ‘रन फॉर युनिटी’ में भाग लेने के लिए तैयार है। अब तो मौसम भी बहुत सुहाना है। मेरा आग्रह है कि आप सब बहुत बड़ी संख्या में इस दौड़ में भाग लें। मोदी ने इन्फ्रैंट्री डे को भी पटेल से जोड़ा जिसे आजादी के बाद जम्मू एवं कश्मीर में पाकिस्तानी घुसपैठियों को खदेड़ने के लिए सेना के नेतृत्व में सैन्य कार्रवाई की पहली जीत के रूप में मनाया जाता है।

Festival_sale

Facebook Comments

BIGGEST SAVING TODAY


amazon_mobile_sale