अमेरिका : अखबार के दफ्तर में गोलीबारी में 5 की मौत, संदिग्ध हिरासत में

अमेरिका के मैरीलैंड में अखबार ‘कैपिटल गजट’ के कार्यालय में गुरुवार को शॉटगन लेकर घुसे हमलावर के हमले में पांच लोगों की मौत हो गई जबकि दो घायल हैं। इसके साथ ही कानूनी प्रवर्तन एजेंसियों को सभी अमेरिकी मीडिया संस्थानों की सुरक्षा बढ़ानी पड़ी है।
द न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, संदिग्ध की पहचान जैरड डब्ल्यू.रैमस (38) के रूप में की गई है। उन्हें गुरुवार को एनापोलिस में कैपिटल गजट के कार्यालय में हमले के बाद हिरासत में लिया गया। इस हमले को बीते कई वर्षो में अमेरिका में पत्ररकारिता का सबसे भयवाह हमला करार दिया गया है।

रैमस का कैपिटल गजट के साथ विवाद का लंबा इतिहास रहा है। रैमस 2015 में अखबार के खिलाफ मानहानि का एक मामला हार गया था। यह मामला 2011 में अखबार में छपे एक कॉलम को लेकर था, जिसे लेकर रैमस ने अखबर पर मानहानि का मुकदमा ठोका था। इस कॉलम में रैमस को सोशल मीडिया के जरिए एक महिला का उत्पीड़न करने का दोषी ठहराया गया था।
वाशिंगटन पोस्ट ने एनी अरंडल काउंटी के डिप्टी पुलिस प्रमुख विलियम क्राम्फ के हवाले से बताया, “यह शख्स आज पूरी तैयारी के साथ आया था। यह शख्स लोगों को गोलियों से निशाना बनाने के इरादे से आया था।” उन्होंने बताया, “उनकी मंशा उन्हें नुकसान पहुंचाने की है।”

पुलिस का कहना है कि मारे गए सभी पीड़ित कैपिटल गजट के कर्मचारी थी, जिनमें गेराल्ड फिशमैन, रॉब हियासेन, जॉन मैकनमारा, रेबेका स्मिथ और वेंडी विंटर्स हैं। अखबार की वेबसाइट के मुताबिक, फिशमैन और हियासेन संपादक थे। मैकनमारा संवाददाता था जबकि स्मिथ सेल्स असिस्टेंट था और विंटर्स विशेष प्रकाशन में काम करते थे। इनमें से चार की मौके पर ही मौत हो गई जबकि पांचवें ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, यह गोलीबारी दोपहर लगभग तीन बजे कार्यालय की इमारत में हुई। पुलिस का कहना है कि रैमस इमारत में शॉटगन के साथ घुसा और अपना शिकार खोजना लगा। पुलिस गोलीबारी के कुछ मिनटों में ही मौके पर पहुंची और रैमस को पकड़ लिया। रैमस न्यूजरूम में डेस्क के नीचे छिपा हुआ था। कैपिटल गजट के संवाददाता फिल डेविस ने इस पूरी घटना को युद्ध के हालात जैसा बताते हुए कहा कि इसका उल्लेख करना मुश्किल है।

कैपिटल गजट के संवाददाता फिल डेविस ने गोलीबारी रूकने के बाद ट्वीट कर कहा, “हमलावर ने दफ्तर के शीशे के दरवाजे से गोलियां चलाई और कई कर्मचारियों पर कई राउंड गोलियां चलाई। ज्यादा कुछ नहीं कह सकता और किसी को मृत भी घोषित नहीं कर सकता लेकिन यह सब बहुत बुरा है।” हाउस स्पीकर पॉल रेयान ने कहा, “आज मैरीलैंड के अखबार पर यह हमला भयावह था। भगवान उन पत्रकारों पर कृपा दृष्टि बनाए रखे। हम उन्हें और उनके परिवार वालों के लिए प्रार्थना करते हैं।” पत्रकारों की सुरक्षा समिति के कार्यकारी निदेशक जोएल साइमन ने कहा कि पत्रकारों पर हिंसा अस्वीकार्य है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट कर इस घटना पर दुख जताया है।

 

खासखबर

Facebook Comments