रूस से आये डोमिसाइल क्रेन की लखनऊ प्राणि उद्यान में उपचार के दौरान हुई मृत्यु-निदेशक

लखनऊ: 31 अक्टूबर, निदेशक प्राणि उद्यान श्री आर.के. सिंह ने बताया कि रूस से गुजरात की तरफ जा रहे डोमिसाइल क्रेन (क्मउवपेमससम ब्तंदम) के दाहिने फेफड़े में अत्यधिक संक्रमण (ैमअमतम प्दमिबजपवद प्द त्पहीज स्नदह) के कारण ब्ंतकपव त्मेचपतंजवतल थ्ंपसनतम से मृत्यु हो गयी। उन्होंने कहा कि क्रेन के बायें पंख की हड्डी कई टुकड़ों में टूट चुकी थी। प्राणि उद्यान के पषु चिकित्सकों के दल द्वारा क्रेन की चिकित्सा लगातार की जा रही थी। यह पक्षी धीरे-धीरे भोजन लेने लगा था तथा इसका घायल पंख गिर गया था। साथ ही इसका घाव भी ठीक हो रहा था।
श्री सिंह ने बताया कि डोमिसाइल क्रेन का मादा बच्चा रूस से गुजरात की तरफ अपने झुण्ड के साथ यात्रा कर रहा था परन्तु षाहजहांपुर के ऊपर से उड़ते हुये यह क्रेन का बच्चा घायल होकर गिर गया तथा एक गांव में पड़ा मिला। प्रभागीय वनाधिकारी, षाहजहांपुर ने पक्षी की चिकित्सा हेतु नवाब वाजिद अली षाह प्राणि उद्यान, लखनऊ भेज दिया। उन्होंने कहा कि इसकी चिकित्सा हेतु प्दजमतदंजपवदंस ।कअपेवतल के लिए ॅवतसक ।ेेवबपंजपवद र्व िववश्े ंदक ।ुनंतपनउ जो कि सभी अन्तर्राश्ट्रीय प्राणि उद्यानों तथा वन्यजीव संस्थानों से जुड़ी हुई है, के माध्यम से परामर्ष मांगा गया। ॅवतसक ।ेेवबपंजपवद र्व िववश्े ंदक ।ुनंतपनउ इस प्रकार की महत्वपूर्ण सूचनाओं को विष्व की सभी संस्थाओं को सूचित करता है।
निदेशक प्राणि उद्यान ने बताया कि इसके अतिरिक्त निदेषक, ठवउइंल छंजनतंस भ्पेजवतल ैवबपमजल ;ठछभ्ैद्ध मुम्बई, निदेषक, प्दकपंद टमजमतपदंतल त्मेमंतबी प्देजपजनजम ;प्टत्प्द्ध बरेली, हैदराबाद प्राणि उद्यान, एवं कानपुर प्राणि उद्यान से भी सम्पर्क किया गया, जिनमें से श्री अभिजीत पावड़े, वरिश्ठ वैज्ञानिक, षल्य चिकित्सा एवं रेडियालाॅजी डिपार्टमेंट, आई0वी0आर0आई0, बरेली तथा डा0 नवीन कुमार, पशु चिकित्साधिकारी, हैदराबाद प्राणि उद्यान ने परामर्ष दिए। उन्होंने कहा कि जाॅच हेतु अंग नमूनों को सुरक्षित रखा गया है। इस पक्षी के पैर में लगे ट्रांसमीटर को भी सुरक्षित रख लिया गया है।

Facebook Comments