निपाह पर केरल सरकार ने बढ़ाई चौकसी, 12 जून तक स्कूल-कॉलेज बंद

जानलेवा वायरस निपाह को लेकर केरल सरकार ने चौकसी बढ़ा दी है। ऐहतियात के तौर पर कोझिकोड में 12 जून तक स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे। इस वायरस से कोझिकोड और मलप्पुरम जिले में 16 जानें जा चुकी हैं। लोक सेवा आयोग ने भी अपने सभी लिखित और ऑनलाइल परीक्षाएं 16 जून तक के लिए स्थगित कर दी हैं। इसके अलावा दोनों जिलों में इस माह होने वाली सारी बैठकें स्थगित कर दी गईं हैं। लोगों से बेहद सतर्क रहने को कहा गया है।
एक अधिकारी के अनुसार वायरस के लक्षण वाले छह लोगों को कोझिकोड मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। कोझिकोड मेडिकल कॉलेज मे एक नियंत्रण कक्ष बनाया गया है जो कि लोगों से संपर्क कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेगा। निपाह वायरस से दो लोगों की मौत के बाद बालुसेरी स्थित एक अस्पताल में चार डॉक्टरों और नर्सों सहित कई कर्मचारियों को छुट्टी पर जाने के लिए कहा गया है। स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने कहा कि कोझिकोड और मलप्पुरम जिले में वायरस के दूसरे फेज में पहुंचने की आशंका के मद्देनजर सरकार ने ऐहतियाती कदम उठाए हैं और लोगों से सतर्क रहने के लिए कहा है।

सूत्रों के अनुसार कोझिकोड जिला कलेक्टर यू वी जोस निपाह वायरस के मद्देनजर जिले की मौजूदा स्थिति की एक रिपोर्ट केरल उच्च न्यायालय में दायर करेंगे। निपाह के कारण कोझिकोड जिला अदालत परिसर के एक अधीक्षक की मौत के कारण बार संघ ने कलेक्टर से कुछ समय के लिए जिला अदालत को बंद करने की अपील की है। राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों ने 14 मई को कोझिकोड मेडिकल कॉलेज, आपात सेवा, सीटी स्कैन रूम और प्रतीक्षा कक्ष आने वाले लोगों से तत्काल निपाह प्रकोष्ठ से संपर्क करने को कहा है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि  निपाह वायरस की जांच के लिए अभी तक 196 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है जिनमें से 18 लोग इससे संक्रमित पाए गए। 16 लोगों की इससे मौत हो चुकी है।

पंजाब केसरी 

Facebook Comments